Chakra Balancing Through Gemstones

  • 1 hour 30 minutes
  • 33,000 Indian rupees
  • JP Road|Ring Road|Bhilai

Service Description

वैदिक ज्योतिष के अनुसार, ग्रह और राशि चक्र मानव चक्रों और अंगों से निकटता से जुड़े हैं। ग्रह और ज्योतिष मानव शरीर में चक्र ऊर्जा, शारीरिक, मानसिक, भावनात्मक शक्ति और रोगों की पहचान करने में मदद करते है । यदि कोई ग्रह कमजोर है, तो उस ग्रह से संबंधित संबंधित चक्र भी कमजोर होगा। इसका मतलब यह भी है कि विशिष्ट चक्र ऊर्जा अवरुद्ध है, इसलिए उस चक्र से संबंधित स्वास्थ्य समस्याएं होती हैं। जन्म की तारीख, समय और स्थान के आधार पर कुंडली बनाई जाती है। कुंडली में 12 घर होते हैं, प्रत्येक घर एक व्यक्ति के जीवन में विभिन्न विशेषताओं को इंगित करता है, यहाँ बैठे ग्रह हमारे सूक्ष्म शरीर में ब्रह्मांडीय विकिरण, या तो सकारात्मक / नकारात्मक ऊर्जा के द्वारा जुड़े हुये चक्रो को प्रभावित करते हैं। सहस्रार चक्र : स्मृति समस्याएं, भावनाओं विकार, बुरे और डरावने सपने, तंत्रिका तंत्र, न्यूरोलॉजिकल पार्किंसंस, पक्षाघात, मिर्गी, सिर, पीनियल ग्रंथि, कंकाल और पेशी प्रणाली एंडोक्राइन ग्रंथि: पीनियल ग्रंथि। आज्ञा चक्र: अति आत्मविश्वास, जागरूकता की कमी, हावी होना, गलत निर्णय, मानसिक स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं नींद की बीमारी। विशुद्धी चक्र : उदर, त्वचा, तंत्रिका तंत्र, गर्दन, मुंह, ब्रोन्कियल ट्यूब, जीभ, फेफड़े, अनिद्रा, बहरापन, अपच, अंतःस्रावी ग्रंथि: थायराइड और पैराथाइरॉइड ग्रंथि। अनाहत चक्र: प्रेम की विफलता, भौतिकवादी चीजों के लिए अत्यधिक लगाव, विलासिता के लिए महत्व और अस्वस्थ रिश्ते,गले, गर्दन, यौन अंग, श्रोणि, मासिक धर्म अनियमितता, वीर्य, ​​मूत्राशय, गुर्दे, अंतःस्रावी ग्रंथि: थाइमस। मणिपुर चक्र: शारीरिक शक्ति और कार्रवाई की हानि, स्वतंत्रता, साहस, इच्छा शक्ति, उदारता, सुरक्षा, स्पष्टता, यौन ऊर्जा, पाचन तंत्र, पित्त, बुखार, बवासीर, त्वचा पर चकत्ते, आत्महत्या की प्रवृत्ति स्वधिष्ठान चक्र: वित्तीय धन, भाग्य, भौतिक और आध्यात्मिक जीवन, न्याय, शिक्षा, धर्म और दर्शन, जुनून के विपरीत होना। जिगर, हार्मोन, अग्न्याशय, मधुमेह, रक्त वाहिकाओं, नितंब, मोटापा। यौन आग्रह और यौन अंतःस्रावी ग्रंथि मुद्दे, अंडाशय, अंडकोष के मुद्दे। मूलाधार चक्र: भय, अनुशासनहीनता, कठिन परिस्थितियों का सामना करना, असुरक्षित होना, नींद न आना। मांस, मांसपेशियां, दांत, हड्डी, घुटने, पैर, जोड़, गठिया और अंतःस्रावी ग्रंथि: । शरीर के चक्र हमारे जन्मकुंडली की तरह जीवन के शारीरिक और मांशिक परिस्थितियो का ज्ञान करती है और हमे जिस चीज की कमी महसूस हो रही हो उसे हम अपने चक्र को ठीक करके प्राप्त कर सकते है। चक्रो को ठीक करने के लिए हम आसान , मुद्रा ,रंगो ,मंत्रो और रत्नो का सहारा ले सकते है। हमारे पास अलग अलग तरह के यंत्र है जिससे हम चक्र के तरंगो को नाप सकते है और रत्नो के द्वारा चक्रो की तरंगो को ठीक किया जा सकता है। 1. Love Life 2. Health 3. Finance & Wealth


Contact Details

  • DLH Metroview, JP Road, Manmandir Co.operative Housing Society, Shitladevi Chawl, D.N.Nagar, Andheri West, Mumbai, Maharashtra, India

    +91 9004500006

    hello@jayantpandey.com

  • A-3, Ring Road, South Extension, Block C, South Extension I, New Delhi, Delhi, India

    +91 9004500006

    hello@jayantpandey.com

  • Sector 5, Bhilai, Chhattisgarh, India

    +91 9004500006

    hello@jayantpandey.com